Wednesday, February 27, 2013

ये रिश्ते ...

ये रिश्ते बड़े अजीब होते हैं
संजो कर रखो तो सीप
में मोती की तरह दिखतें हैं,
ज़रा सी चूक होने पर
कांच की तरह बिखरतें हैं ,
न दिल को भायें तो
जिगर में काँटों की तरह चुभते हैं,
फिर भी हमें बड़े ही
अजीज़ होतें हैं।।

24 comments:

  1. रिश्ते तो अजीब होते ही हैं प्रतिभा जी इनको बनते बिगड़ते समय नहीं लगता.

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया रिश्तों की सच्ची दशा बताई है आपने.

    ReplyDelete
  4. अजीब से रिश्तों के अजीज शब्द...बढ़िया .. बेहतरीन ..

    ReplyDelete
  5. अजीब से रिश्तों के अजीज शब्द .. बढ़िया ..बेहतरीन ..

    ReplyDelete
  6. सच कहा आपने ... रिश्‍ते फिर भी अजीज होते हैं

    ReplyDelete
  7. पोस्ट दिल को छू गयी.कितने खुबसूरत जज्बात डाल दिए हैं आपने.बहुत खूब,

    ReplyDelete
  8. रिश्तों से परे कोई नहीं.............किन्तु इन्हे काँच की तरह ही सम्हालना पड़ता है....यह भी एक सच है.......

    ReplyDelete
  9. जिगर में काँटों की तरह चुभते हैं,
    फिर भी हमें बड़े ही
    अजीज़ होतें हैं।।-----bahut sahi

    ReplyDelete
  10. बहुत उम्दा ..सच कहा आपने इन रिश्तो में ही हमारे प्राण भी होते हैं जब ये टूटते है तो जैसे हमारे शरीर के किसी अंग को भंग कर दिया ऐसा परतीत होता है

    आज की मेरी नई रचना जो आपकी प्रतिक्रिया का इंतजार कर रही है

    ये कैसी मोहब्बत है

    ReplyDelete
  11. Rishte kaise bhi ho,bas hone chahiye iss zindagi ke lie...

    ReplyDelete
  12. सच कहा है बहुत नाज़ुक होते हाँ ये रिश्ते ... समय के रक्त से पालना होता है इसे ... जीवित रखने के लिए ... बहुत खूब ...

    ReplyDelete
  13. फिर भी हमें बड़े ही
    अजीज़ होतें हैं।।
    ....हमसे जुड़े जो होते हैं...

    ReplyDelete
  14. .आपकी टिपण्णी हमारी शान है .बहुत खूब लिखा है रिश्तों के मनोविज्ञान पर .

    ReplyDelete
  15. Nice post.....
    Mere blog pr aapka swagat hai

    ReplyDelete
  16. BAHUT KHOOB ,: VO BADE KHOOSHNASIB HOTE HAIN,RISTE B-MUSHIL NASIB HOTE HAI,CHAHNE VALE TU LAKH NAKAR LE,,YE RISTE JINDGI KE ZARIB HOTE HI

    ReplyDelete
  17. फिर भी हमें बड़े ही
    अजीज़ होतें हैं
    ..यही तो खासियत है इन रिश्तों की ....भले ही रिसते हों लेकिन रिश्ते ही कहलाते हैं जो देर सवेर अच्छे लगने लगते हैं ..
    बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  18. दिल को छू जाने वाले जज़्बात. रिश्तों को समझना जीवन में महत्त्वपूर्ण है. सुंदर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  19. फिर भी हमें बड़े ही
    अजीज़ होतें हैं।।sachhi bat....

    ReplyDelete
  20. वाकई रि‍श्‍ते अजीब होते हैं

    ReplyDelete
  21. वाह बहुत खूब प्रतिभा दिखाई आपने इस रचना में | आभार |

    ReplyDelete