Sunday, February 03, 2013

मेरी माँ ...


कुछ प्यारी सी
कुछ भोली सी है
मेरी माँ ...
कभी लड़ती है
कभी डाटती है
और कभी बिना बात के
प्यार भी जताती है
मेरी माँ ...
काम करते नहीं थकती
कुछ भी  मांगो
झट मिल जाता है
ऐसी है मेरी माँ ...
लाड़ली हूँ मैं उसकी
कहती है मुझे वो
अपने कलेजे का टुकड़ा
लाख दर्द भरे हों
उसके दिल में
पर कभी न जताती
मेरी माँ ...
कभी सखियों की तरह
करती है बातें
कभी शिक्षकों की तरह
लगती है डाटने
बस कुछ ऐसी ही है
मेरी माँ ...
कुछ प्यारी सी
कुछ भोली सी है
मेरी माँ ...

13 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    ऐसी ही तो होती है माँ...

    ReplyDelete
  2. माँ ...माँ ही होती है।

    सादर

    ReplyDelete
  3. माँ की ममता का कोई पर्याय हो नहीं सकता
    पूरी दुनिया में माँ तेरे जैसा कोई हो नही सकता,,,,

    RECENT POST शहीदों की याद में,

    ReplyDelete
  4. तभी तो वो माँ हैं

    ReplyDelete
  5. माँ से अच्छा कौन हो सकता है...... बहुत प्यारी है आपकी कविता

    ReplyDelete
  6. संजो के रखना माँ के इसी प्रेमांश को सखी भाव को -



    लाख दर्द भरे हों
    उसके दिल में
    पर कभी न जताती
    मेरी माँ ...
    कभी सखियों की तरह
    करती है बातें
    कभी शिक्षकों की तरह
    लगती है डाटने
    बस कुछ ऐसी ही है
    मेरी माँ ...
    कुछ प्यारी सी
    कुछ भोली सी है
    मेरी माँ ...



    माँ की डांट /डांटने में भी निहित रहता है प्रेमांश .बिंदी लगाएं डांट /डांटने पर .आभार .


    ReplyDelete
  7. कभी शिक्षकों की तरह
    लगती है डाटने
    बस कुछ ऐसी ही है
    मेरी माँ ...
    कुछ प्यारी सी
    कुछ भोली सी है
    मेरी माँ .-----sunder bhaw jeevan ka sach maa sirf maa

    ReplyDelete
  8. कभी शिक्षकों की तरह
    लगती है डाटने
    बस कुछ ऐसी ही है
    मेरी माँ ...
    कुछ प्यारी सी
    कुछ भोली सी है
    मेरी माँ . ---sunder bhaw sachhi kavita

    ReplyDelete
  9. No one can take Place of Mother.
    nice presentation.

    ReplyDelete
  10. Khushi...dard...pyar...sabkuchh.
    Maa ke lie jitna likha jaaye,kam...

    ReplyDelete
  11. bilkul ... maa aisi hi hoti hai...sundar saral shabdoN mein achhi prastuti
    http://boseaparna.blogspot.in/

    ReplyDelete
  12. Maa ki mahima anant hai pratibhaji..bahut achchhi kavita hai aapki, man ko chhu gayi...hardik abhinandan!

    ReplyDelete