Thursday, February 26, 2015

यादों से अपनी कह दो...

यादों से अपनी कह दो
थोड़ा कम सताया करें
वक़्त बेवक़्त हमें
यूं न रुलाया करें !
हमने कब कहा था
तुमसे दूर जाने को
फैसला तुम्हारा था
तो इन यादें को भी
तुम्ही सम्भालो !!!





9 comments:

  1. ''यादों से अपनी कह दो'' बहुत ही सुंदर कविता है।

    ReplyDelete
  2. यादें कहा नहीं मानतीं....किसी का भी नहीं....

    ReplyDelete
  3. वाह , मंगलकामनाएं यादों को !

    ReplyDelete
  4. यादें अक्सर तंग करती है ... उनकी होती हैं उनके साथ नहीं जाती ...

    ReplyDelete
  5. वाह क्‍या खूब कहा। ''यादों से अपनी कह दो, थोड़ा कम सताया करो''

    ReplyDelete
  6. सुंदर भावाभिव्यक्ति...रंग पर्व होली की रंग भरी शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब

    ReplyDelete
  8. बहुत खूब..

    तुमसे दूर जाने को
    फैसला तुम्हारा था
    तो इन यादें को भी
    तुम्ही सम्भालो !!!

    ReplyDelete