Saturday, September 07, 2013

फुरसत के चार पल ...

कभी फुरसत  में मिलें पल तो हमें बताना
हमारे पास आकर दो लफ्ज़ कह जाना

इस जहाँ में कहाँ है वक्त किसी के पास
मगर तुम तो कुछ पल मेरे साथ बिताना

हमसफ़र हो तो साथ ही चलना
गैरों की तरह यूँ तन्हा न छोड़ना

कहतें हैं की अँधेरे में साया भी साथ छोड़ देता है
पर तुम ऐसे अंधेरों से मुझे बचाना

जब कभी निराशाओं से घिरुं मैं
मेरा हाँथ थाम कर बाहर ले आना !!






26 comments:

  1. नमस्कार आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (08-09-2013) के चर्चा मंच -1362 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुन्दर ग़ज़ल

    ReplyDelete
  3. Anonymous5:33 PM

    Nice one.

    ReplyDelete
  4. कहतें हैं की अँधेरे में साया भी साथ छोड़ देता है
    पर तुम ऐसे अंधेरों से मुझे बचाना

    जब कभी निराशाओं से घिरुं मैं
    मेरा हाँथ थाम कर बाहर ले आना !!
    बहुत सुन्दर प्रतिभा जी. बाहर के बदले बहार हो गया है.

    ReplyDelete
  5. Anonymous5:33 PM

    Nice one.

    ReplyDelete
  6. सुन्दर ग़ज़ल....

    अनु

    ReplyDelete
  7. कहतें हैं की अँधेरे में साया भी साथ छोड़ देता है
    पर तुम ऐसे अंधेरों से मुझे बचाना
    ..........बहुत सुन्दर....

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर गजल बढ़िया अभिव्यक्ति,,,

    RECENT POST : समझ में आया बापू .

    ReplyDelete
  9. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुती।

    ReplyDelete
  10. सुन्दर रचना...
    :-)

    ReplyDelete
  11. डोंट वरी!!!सच्चे और अच्छे लोग, दोस्त हमेशा साथ निभायेंगे....नो मैटर व्हाट!! :) :)

    ReplyDelete
  12. सुंदर भाव !

    ReplyDelete
  13. कुछ मेरी सुन लेना कुछ अपनी कह जाना
    फुरसत के कुछ पल साथ मेरे तुम बिताना

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति .. आपकी इस रचना के लिंक की प्रविष्टी सोमवार (09.09.2013) को ब्लॉग प्रसारण पर की जाएगी, ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें .

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  16. bohat hi pyari rachna

    ReplyDelete
  17. सहारे की आशाएं ..
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  18. संवेदनशील भाव, सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  19. बढ़िया लिखा आपने | आपके ब्लॉग को ब्लॉग"दीप" में शामिल किया गया है | जरूर पधारें |

    ReplyDelete
  20. सुन्दर रचना! बढ़िया अभिव्यक्ति!
    Latest post हे निराकार!
    latest post कानून और दंड

    ReplyDelete
  21. bhawon se bhari hui rachna ....

    ReplyDelete
  22. कहतें हैं की अँधेरे में साया भी साथ छोड़ देता है
    पर तुम ऐसे अंधेरों से मुझे बचाना


    prem bhare bhaav, achha laga padhna.

    aap apne google+ mein 'blog ki id' likh dein blog tak pahunchna aasan ho jata hai:)

    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  23. सुन्दर प्रस्तुति। पढ़वाने के लिए शुक्रिया।

    ReplyDelete