Saturday, April 13, 2013

"आँसुओं के मोती"

आँसुओं के मोती हम पिरो न सके,
तुम्हारी याद में हम रो न सके।

जख्म कुछ इतना गहरा दिया तुमने,
कि  कोई दवा  उसे भर न सकी।

लोग कहतें हैं अपनों का प्यार भरता है,
ऐसे जख्मों को।

पर गर अपने ही जख्म दें ,
तो दवा कौन करे??

37 comments:

  1. वाह !!!बहुत सुन्दर .....

    ReplyDelete
  2. आँसुओं के मोती हम पिरो न सके,
    याद में तुम्हारी हम रो भी न सके।
    जख्म इतना गहरा दिया तुमने,
    कि कोई दवा उसे भर न सके....

    बहुत बढ़िया उम्दा प्रस्तुति,आभार,,प्रतिभा जी,,

    Recent Post : अमन के लिए.

    ReplyDelete
  3. बात तो सही है ... सुंदर पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  4. बहुत खूब!

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज रविवार (14-04-2013) के जय माँ शारदा : चर्चा मंच 1214 (मयंक का कोना) पर भी होगी!
    अम्बेदकर जयन्ती, बैशाखी और नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ!
    सूचनार्थ...सादर!

    ReplyDelete
  6. बहुत - बहुत शुक्रिया शास्त्री जी ...

    ReplyDelete
  7. जख्म कुछ इतना गहरा दिया तुमने,
    कि कोई दवा उसे भर न सकी। अपने वास्तव में अपने होते हैं तो कभी जख्म नहीं देते .......बहुत अच्छा सृजन ....

    ReplyDelete
  8. सुंदर प्रस्तुति .....बेहतरीन रचना !!

    ReplyDelete
  9. सुंदर प्रस्तुति .....बेहतरीन रचना !!

    ReplyDelete
  10. सुंदर प्रस्तुति .....बेहतरीन रचना !!

    ReplyDelete
  11. सुंदर रचना बधाई
    सादर मेरे अंगना पधारें
    ''माँ वैष्णो देवी ''

    ReplyDelete
  12. आँसुओं के मोती हम पिरो न सके,
    तुम्हारी याद में हम रो न सके।
    बहुत ही उत्कृष्ट प्रस्तुति,आभार.

    ReplyDelete
  13. बेहद भावपूर्ण रचना, हार्दिक बधाई........

    ReplyDelete
  14. रब और अपनी आत्म-शक्ति ...।
    गैरों को क्या पता कष्ट कैसे होगा ....

    ReplyDelete
  15. अपने कभी जख्म दें तो सबसे बडी दवां समय ही होता है। समय के चलते घांव भरते हैं उन पर पपडी जमती है। और समय बितने के बाद घांव देने वाले को जब पता चलता है 'मैंने घांव दिया था' तब उसके वापसी के साथ जख्म मिटना भी हो सकता है।
    पर अपेक्षा यह कि प्रेम में कोई किसी को घांव नहीं दे।

    ReplyDelete
  16. bahut khubsurat likhte ho...:)

    ReplyDelete
  17. अपनों के जख्म की दवा आसानी से नहीं मिलतो .. समय ही भरता है ये दर्द ...
    भाव मय रचना ...

    ReplyDelete
  18. प्रतिभा जी ये तो सही कहा आपने जब अपने ही जख्म दे फिर दवा कौन करे ... लेकिन समय के साथ ऐसे जख्म भी भर जाते हैं .. बहुत बढ़िया रचना बधाई ..

    ReplyDelete
  19. भावपूर्ण रचना, बधाई....

    ReplyDelete
  20. सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति . हार्दिक आभार नवसंवत्सर की बहुत बहुत शुभकामनायें हम हिंदी चिट्ठाकार हैं

    BHARTIY NARI
    PLEASE VISIT .

    ReplyDelete
  21. सुन्दर पंक्तियाँ.

    ReplyDelete
  22. सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति ..बधाई....

    ReplyDelete
  23. वाह ... बेहतरीन

    ReplyDelete
  24. प्रतिभा जितनी सुन्दर आप स्वयं हैं उतनी ही सुन्दर आपकी रचनाएँ और उनकी शब्दावली होती है | बहुत ही रोचक कविता | पढ़कर ह्रदय पुलकित हो गया | आभार | बहुत समय बाद आपके ब्लॉग पर आना हुआ पता नहीं आपके ब्लॉग अपडेट मेरे पास नहीं आ पा रहे हैं | इसलिए क्षमा चाहूँगा | बेहद उम्दा प्रस्तुति |

    ReplyDelete
  25. कभी कभी दर्द ही दवा बन जाती है ...

    ReplyDelete

  26. गहन अनुभूति
    सुंदर रचना
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    बधाई

    आग्रह है मेरे ब्लॉग में भी सम्मलित हों

    ReplyDelete
  27. अपनों के दिए ज़ख्म वक्त भरता है....

    अनु

    ReplyDelete
  28. बहुत ही बढ़िया



    सादर

    ReplyDelete
  29. अपनों के जख्म की दवा ,सुंदर रचना बधाई....
    सुन्दर पंक्तियाँ.बहुत ही रोचक कविता .....
    गहन अनुभूति,बेहतरीन
    सादर

    ReplyDelete
  30. kafi achchha laga ise pad ke....

    ReplyDelete
  31. बहुत ही गहरे भावो की अभिवयक्ति......

    ReplyDelete
  32. वाह !!!बहुत सुन्दर ...

    ReplyDelete
  33. वाह !!!बहुत सुन्दर ...

    ReplyDelete