Sunday, December 16, 2012

वक्त का काम है चलते रहना ....

इन्सान की फितरत है बदलना ,
वक्त का काम है चलना।
राह में हमें साथी तो कई मिलतें हैं ,
पर हर कोई हमसफ़र नहीं बनता ।
ये ज़िन्दगी है इसका तो काम है चलते रहना,
फिर इंसान की  फितरत भी तो है हमेशा बदलते रहना ।।



2 comments:

  1. "वक्त का काम है चलना" सही कहा
    "इन्सान की फितरत है बदलना" लेकिन जीवन मूल्यों का परित्याग करके नहीं - शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  2. bilkul sahi kaha aapne...bahut-bahut dhanyavad

    ReplyDelete