Friday, December 07, 2012

आस्तित्व बूँद का ......

समन्दर  से अलग होकर  बूँद,
समन्दर से बेवफाई करती है ,
लेकिन अपने आस्तित्व को एक नया जन्म देती है !
बूँद फिर से समन्दर में समाकर,
समन्दर से अपनी  वफ़ा निभाती है,
और अपने आस्तित्व को एक बार फिर से मिटाती  है !!

6 comments:

  1. वाह . बहुत उम्दा,सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति . हार्दिक आभार आपका ब्लॉग देखा मैने और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

    ReplyDelete
  2. आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 23/01/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. वफा और वेवफाई का सुन्दर चित्रण किये है,अतिसुन्दर।

    ReplyDelete
  4. बहुत उम्दा भाव ,सार्थक प्रस्तुति,,,प्रतिभा जी,,

    recent post : बस्तर-बाला,,,

    ReplyDelete
  5. बेहतरीन रचना

    सादर

    ReplyDelete